Pages

Wednesday, 7 March 2012

यांदे!!!

यांदे तो जीवन के पल-२ की कहानी है
कोई कडवी दर्द भरी तो , कोई मीठी सुहानी है ।।


बचपन की मीठी यादे , मानस में किलोले करती 
सखियों के मधुर मिलन भी मन को उद्धेलित करती ।।

जब मिले तो हर्षित हो गए बिछुड़े तो दर्द तो हुआ है
जीवन के हर लम्हे में सुख दुःख का बोध हुआ ।।

ये पल जो  बीत रहे हैं कल बन जायेंगी यादे ।
हम बिछुड़े भी जाये तो क्या पर जुडी रहेंगी यादें ।।

इस मधुर - मिलन के पल को हम इतना मीठा कर  दे
एक-२ के अन्तस्तल में यादों का सागर भर दे ।।

1 comment: